MID Brain Activation

Excellent Academy Launching a MID Brain Activation Program.
मिडब्रेन एक्टिवेशन वर्कशॉप में भाग लेने के बाद बच्चे के अन्दर अविश्वसनीय छिपी हुई क्षमताये जागृत हो जाति है, जिसका एक तात्कालिक प्रमाण ये है कि एक वर्कशॉप में भाग लेने के बाद बच्चे अपने ब्रेन वेव (मस्तिष्क कि तरंगे) के द्वारा अपनी बंद आँखों से वो सब कुछ पढ़ सकता है जिसे हम खुली आँखों से पढ़ते है | वो सब कुछ महसूस कर सकता है है, जिसे हम खुली आँखों से देख कर महसूस करते है और पूरा कोर्स कर लेने के बाद बच्चे कि पूरी शैली ही बदल जाती है | सुनने में यह किसी जादू से कम नहीं है, पर विज्ञान के इस दौर में अब प्रमाणिक तौर पर इसे हाथो-हाथ स्वीकार किया जा रहा है और बच्चे हर क्षेत्र में सफलता कि नई ऊचाईयों को छू रहे है |


मिड ब्रेन एक्टिवेशन क्या है ? | What is MID Brain Activation?

हमारे मस्तिष्क के तीन भाग होते हैं | राइट ब्रेन लेफ्ट ब्रेन (कंशियस अन कंशियस) एवंमिड ब्रेन | अधिकतर हम सभी लेफ्ट ब्रेन का 90 फीसदी उपयोग करते हैं, जबकि राइट ब्रेन सिर्फ 10 फीसदी उपयोग किया जाता है | इस पद्धति के जरिए मेमोरी, कान्सेaट्रेशन, विजुलाइजेशन, इमेजिनेशन क्रिएटिव माइंड का उपयोग जल्दी पढ़ने कि कला जाग्रत कर सकेंगे |
मिड ब्रेन एक्टिवेशन योग और विज्ञान के संयोग से विकसित एक विशेष तकनीक है जिसके द्वारा सबसे पहले बच्चे के दिमाग को अल्फा या शून्य की स्टेज में लाया जाता है | इस स्थिति में मिड-ब्रेन कंशियस- अन कंशियस के बीच बीच ब्रिज का काम करने लगता है | नतीजतन सभी इंद्रियां एक साथ आब्जेक्ट को महसूस कर मस्तिष्क को सूचना देने लगाती हैं |
म्यूजिक, डांस, जिमिंग,पजल्स व अभ्यास को आसान और रोचकपूरी बनाते हैं यह पूरी प्रक्रिया वैज्ञानिक प्रणाली पर आधारित है | इसमें बच्चों के कंफर्ट जोन में जाकर उन्हें अलग अलग स्टेप्स करवाए जाते हैं जैसे – ब्रेन एक्सरसाइज, ब्रेन जिम, डांस,पजल्स,गेम्स तथा योग व ध्यान क्रियाए सिखाई जाती हैं |
मिड ब्रेन एक्टिवेशन | वैसे तो 2 दिन में हो जाता है पहले और दूसरे दिन 6 घंटे अभ्यास कराया जाता है | इसके बाद इसका फोलोअप दो घंटे हर हप्ते करवाया जाता है | करीब डेढ माह के अभ्यास में बच्चों कि इंद्रियां संवेंदनशील होने लगती हैं |

बच्चों को क्या फायदा होता है ?

हम अगर चाहते है बच्चा पुरे बैलेंस के साथ कम करे, तो इन दोनों के बीच का पॉइंट यानी मिड ब्रेन एक्टिव करना जरुरी है | बॉडी के लेफ्ट और राइट दोनों तरफ के पार्ट बराबर उपयोग करने कि प्रेक्टिस कराई जाति है | म्यूजिक थेरेपी, मेडिटेशन, छोटी छोटी ब्रेन स्ट्रेंथ बढ़ाने की एक्सरसाइज से भी मिड ब्रेन एक्टिव होता है |
ट्रेनिंग और प्रॉपर कोर्स से 5 से 15 साल तक के बच्चों का मिड ब्रेन आसानी से एक्टिव हो सकता है | 15 की उम्र के बाद आने वाले हार्मोनल बदलाव मिड ब्रेन को पूरी तरह से एक्टिव नहीं कर पाते | इसलिए 15की उम्र के बाद इसके एक्टिवेशन के चांस बहुत कम होते हैं | मिड ब्रेन एक्टिव होने पर बच्चा आंख पर पट्टी बांधकर भी चीजें और रंग पहचान लेता है | मिड ब्रेन एक्टिवेशन कोर्ष करने के बाद बच्चों में एकाग्रता की जबर्दस्त बढ़ोतरी होती है, यहां तक की वे आंखो में पट्टी बांधकर किताबे पढ़ सकते हैं | विभिन्न रंगों को आसानी से पहचान सकते हैं| कोर्स करने के बाद छात्रों की जीवन शैली ही बदल जाती है | यह कोर्स ध्यान वैज्ञानिक तकनीक पर आधारित है,जिससे कोई साइड इफेक्ट नहीं होता |

मिडब्रेन एक्टिवेशन से लाभ

बच्चा आंखे बंद करके पढ़ सकता है,आंखो पर पट्टी बांधकर किसी भी वस्तु या व्यक्ति को छु कर,सूंघ कर उसके बारे में सटीक बता देता है, मानो उसे खुली आंख से देख रहा हो | अगर आप समझ रहे हैं कि ये चमत्कारी ताकत जन्म से नहीं मिली है, तो ऐसा नहीं है| यह वरदान योग और विज्ञान के मिलेजुले चमत्कार से मिला है | यह कोई चमत्कार नहीं है, केवल योग और विज्ञान का मिलाजुला प्रयोग यह मिड ब्रेन एक्टिवेशन टेक्निक के जरिये होता है | इसमें लगातार अभ्यास,जिसमें बच्चों को ब्रेन-एक्सरसाइज,ब्रेन जिम, मेडिटेशन और विशेष तौर पर कंपोज किए गए स्प्रिचुअल-म्यूजिक पर डांस कराया जाता है| भारतीय योग और जापानी तकनीक के मिलेजुले अभ्यास से बच्चों की इन्द्रियों को अतिसंवेदनशील बना दिया जाता है |

  • एकाग्रता में जबरदस्त बढ़ोतरी
  • याददास्त सुपर कंप्यूटर कि तरह तेज
  • दैनिक आचरण में अभूतपूर्व एवं सकारात्मक बदलाव
  • गणित में बेहतर प्रदर्शन
  • बेहतर आईक्यू लेवल
  • बेहतर भावनात्मक स्थिरता
  • आत्मविश्वाश में बढ़ोतरी
  • रचनात्मक (क्रियेटिविटी) क्षमता का विकास
  • गुस्से में पूर्ण नियंत्रण और भी बहुत कुछ...

माता पिता के सामने पेश आ रही

बच्चो की नई चुनोतियां

  • पढाई के लिए कोई आत्म दीक्षा नही
  • एकाग्रता में कोई एक ही स्थान में कुछ मिनट के लिए बैठने के लिए सक्षम नही
  • टीवी देखने में अधिक समय बिताना
  • कंप्यूटर गेम खेलने की लत
  • आत्मविश्वास में कमी
  • पाठयोत्तर गतिविधियों में रूचि नही
  • माता –पिता की नही सुनना
  • खाने की आदतों के साथ चुनौतिया
  • स्थितियों में भावनात्मक रूप से कमजोर प्रतिक्रिया करना
  • बच्चो को अपने माता पिता के साथ अपनी भावनाओं को साझा नही करना
  • निर्णय लेने में कठिनाई
  • शारीरिक ऊर्जा में कमी
  • अपने साथियों के साथ संगत

आलराउंडर बनना है तो अपना

मिडब्रेन करिए एक्टिव

  • पढाई के लिए कोई आत्म दीक्षा नही
  • एकाग्रता में कोई एक ही स्थान में कुछ मिनट के लिए बैठने के लिए सक्षम नही
  • टीवी देखने में अधिक समय बिताना
  • कंप्यूटर गेम खेलने की लत
  • आत्मविश्वास में कमी
  • पाठयोत्तर गतिविधियों में रूचि नही
  • माता –पिता की नही सुनना
  • खाने की आदतों के साथ चुनौतिया
  • स्थितियों में भावनात्मक रूप से कमजोर प्रतिक्रिया करना
  • बच्चो को अपने माता पिता के साथ अपनी भावनाओं को साझा नही करना
  • निर्णय लेने में कठिनाई
  • शारीरिक ऊर्जा में कमी
  • अपने साथियों के साथ संगत

कहाँ छिपी हैं आपकी शक्तियाँ?

मनुष्य के पास असीम शक्तियाँ हैं ,यह बात हम सभी ने अपने ग्रंथों-शास्त्रों में पढ़ी हैं लेकिन यह बात कितनी सत्य है शायद इसका अंदाजा हम सभी को नहीं है | केवल एक विश्वास है कि ग्रंथों में लिखी हुई सभी बाते सत्य हैं | इसी सन्दर्भ में सबसे पहले हमारे मन में एक सवाल आता है कि हमारे पास असीम शक्तियाँ हैं | तो वो कहा छिपी हुई हैं? और इनका प्रयोग हम कैसे कर सकते हैं? आइये एस बात को एक कथा द्वारा समझते हैं |
power
एक बार देवताओं में चर्चा हो रही थी, चर्चा का विषय था मनुष्य की हर मनोकामनाओं को पूरा करने वाली गुप्त चमत्कारी शक्तियों को कहाँ छुपाया जाये| सभी देवताओं में इस पर बहुत वाद-विवाद हुआ| एक देवता ने अपना मत रखा और कहा कि इसे हम एक जंगल की गुफा में रख देते हैं| दुसरे देवता ने उसे टोकते हुए कहा नहीं-नहीं,हम इसे पर्वत की चोटी पर छिपा देंगे| उस पर्वत की बात ठीक पूरी भी नहीं हुई थी कि कोई कहने लगा, न तो हम इसे कही गुफा में छिपाएंगे और न ही इसे पर्वत की चोटी पर हम इसे समुद्र की गहराईयों में छिपा देते हैं यही स्थान इसके लिए सबसे उपर्युक्त रहेगा | सबकी राय खत्म हो जाने के बाद एक बुद्दिमान देवता ने कहा क्यों न हम मानव की चमत्कारिक शक्तियों को मानव –मन की गहराईयों में छिपा दें | चूँकि बचपन से ही उसका मन इधर-उधर दौडता रहता है, मानव कभी कल्पना भी नहीं कर सकेगा कि ऐसी अदभुत और विलक्षण शक्तियाँ उसके भीतर छुपी हो सकती हैं और वह इन्हें बाह्य जगत में खोजता रहेगा | इन बहुमूल्य शक्तियों को हम उनके मन की निचली तह में छिपा देंगे | बाकी सभी देवता भी इस बात से सहमत हो गए और ऐसा ही किया गया | मनुष्य के भीतर ही चमत्कारी शक्तियों का भण्डार छुपा दिया गया ,इसलिए कहा जाता है मानव मन में अदभुत शक्तियां निहित हैं |

कथा का सार: दोस्तों इस कहानी सार यह है कि मानव मन असीम ऊर्जा का कोष है | इंसान जो भी चाहे वो हासिल कर सकता है.मनुष्य के लिए कुछ भी असाध्य नहीं है | लेकिन बड़े दुःख की बात है उसे स्वयं विश्वास ही नहीं होता कि उसके भीतर इतनी शक्तियाँ विद्यमान हैं | अपने अन्दर कि शक्तियों को पहचानिये,उन्हें पर्वत, गुफा या समुद्र में मत ढूँढिये बल्कि अपने अंदर खोजिए और अपनी शक्तियों को निखातिए | हथेलियों से अपनी आखों को ढककर अंधकार होने का शिकायत मत कीजिये | आखें खोलिए और अपने भीतर झाकिए और अपनी अपार शक्तियों का प्रयोग कर अपना हर एक सपना पूरा कर डालिये |

Back...

Image Gallery

Programs Overview

Excellent Academy offering distance learning programs like Diploma, Under Graduate, Post Graduates:

Social Plugins

Contact Us

South of Steel City(Bhilai), Straight of DPS Chouk, located in Risali, behind Madhuram Restaurent, Near Maitri Children Park, Maitri Nagar, Risali, Bhilai Nagar (C.G.)

Address: 75/3A, Maitri Nagar, Risali, Bhilai
Telephone: +91 788-4049049
Mobile: +91 9009007645
E-mail:excellent.bhilai@gmail.com
                        


Visitors: